Wednesday, August 15

गोचर ग्रहों का भावानुसार फल

Google+ Pinterest LinkedIn Tumblr +

“गोचर” का अर्थ -निरन्तर चलने वाला”।

ब्रह्माण (Universe) में स्थित ग्रह अपनी-अपनी धुरी(axis) पर अपनी गति से निरन्तर भ्रमण करते रहते हैं। इस भ्रमण के दौरान वे एक राशि (sign) से दूसरी राशि (Sign) में प्रवेश करते हैं। ग्रहों के इस प्रकार राशि परिवर्तन करने के उपरांत दूसरी राशि में उनकी स्थिति को ही “गोचर”(Transit) कहा जाता है। प्रत्येक ग्रह का जातक की जन्मराशि (Moon sign) से विभिन्न भावों “गोचर”(Transit)  भावानुसार शुभ-अशुभ फल देता है।

भ्रमण काल (Transit Period)

सूर्य(Sun),शुक्र(Venus),बुध(mercury) का भ्रमण काल (Transit Period) = १ माह,

चन्द्र(Moon) का भ्रमण काल (Transit Period) =  सवा दो दिन,

मंगल(Mars) का भ्रमण काल (Transit Period) =  ५७ दिन,

गुरू(Jupiter) का भ्रमण काल (Transit Period) = १ वर्ष,

राहु(dragon’s head)-केतु (Dragon’s tail) का भ्रमण काल (Transit Period) = डेढ़ वर्ष

शनि (Saturn) का भ्रमण काल (Transit Period) = ढ़ाई वर्ष

अर्थात ये ग्रह इतने समय में एक राशि(Sign) में रहते हैं तत्पश्चात ये अपनी राशि-परिवर्तन (Sign change) करते हैं।

विभिन्न ग्रहों कागोचरअनुसार फल:

(Transit results of different planets:)

१. सूर्य जन्मकालीन राशि (Moon sign) से ३,६,१० और ११ वें भाव में शुभ फल देता है। शेष भावों में सूर्य का फल अशुभ देता है।

(Sun gives good results from 3,6,10 and 11th houses from the moon sign. In rest of the houses it gives bad result.)

 

२. चंद्र जन्मकालीन राशि (Moon sign) से १,३,६,७,१०,व ११ भाव में शुभ तथा ४, ८, १२ वें भाव में अशुभ फल देता है।

(Moon gives good results from 1,3,6,7,10 and 11th houses from the moon sign and It gives bad result in 4,8 and 12th houses.)

 

३. मंगल जन्मकालीन राशि (Moon sign)  से ३,६,११ भाव में शुभ फल देता है। शेष भावों में अशुभ फल देता है।

(Mars gives good results from 3,6 and 11th houses from the moon sign. In rest of the houses it gives bad result.)

 

४. बुध  जन्मकालीन राशि (Moon sign)  से २,४,६,८,१० और ११ वें भाव में शुभ फल देता है। शेष भावों में अशुभ फल देता है।

(Mercury gives good results from 2,4,6,8,10 and 11th houses from the moon sign. In rest of the houses it gives bad result.)

 

५. गुरू जन्मकालीन राशि (Moon sign)  से २,५,७,९ और ११ वें भाव में शुभ फल देता है। शेष भावों में अशुभ फल देता है।

(Jupiter gives good results from 2,5,7,9 and 11th houses from the moon sign. In rest of the houses it gives bad result.)

 

६. शुक्र  जन्मकालीन राशि (Moon sign)  से १,२,३,४,५,८,९,११ और १२ वें भाव में शुभ फल देता है। शेष भावों में अशुभ फल देता है।

(Venus gives good results from 1,2,3,4,5,8,9,11 and 12th houses from the moon sign. In rest of the houses it gives bad result.)

 

७. शनि जन्मकालीन राशि (Moon sign) से ३,६,११ भाव में शुभ फल देता है। शेष भावों में अशुभ फल देता है।

(Saturn gives good results from 3,6 and 11th houses from the moon sign. In rest of the houses it gives bad result.)

 

८. राहु  जन्मकालीन राशि (Moon sign)  से ३,६,११ वें भाव में शुभ फल देता है। शेष भावों में अशुभ फल देता है।

(Rahu/Dragon’s head gives good results from 3,6 and 11th houses from the moon sign. In rest of the houses it gives bad result.)

 

९. केतु जन्मकालीन राशि (Moon sign)  से १,२,३,४,५,७,९ और ११ वें भाव में शुभ फल देता है। शेष भावों में अशुभ फल देता है।

(Ketu/Dragon’s tail gives good results from 1,2,3,4,5,7,9 and 11th houses from the moon sign. In rest of the houses it gives bad result.)

 

Do You Want Consulting?

Ask To Astrologer Right Now Live Chat

Share.

About Author

CEO Astha or Adhyatm Faith & Spirituality Pooja Satya is Higher Spiritual personality, Astrologer, Horoscope, Prediction, Nadi Astrologer, Career Consultant.

Leave A Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!