शनि ग्रह हस्त रेखा में (Saturn in Palmistry)

शनि ग्रह हस्त रेखा में (Saturn in Palmistry)

शनि ग्रह दूसरी उंगली के मूल स्थान में स्थित होता है इस ग्रह के मुख्य गुण है एकांतप्रिय था बुद्धिमानी चुपचाप दृढ़ निश्चय करना गंभीर विषयों का ध्यान करना और भाग्य पर अंधविश्वास करना यदि यह बिल्कुल विकसित ना हो तो व्यक्ति मैं छिछोरा भरा जाता है यदि यह क्षेत्र सीमा से अधिक विकसित हो तो उसके गुणों में इतनी वृद्धि आ जाती है कि वह अब वह बन जाते हैं शनि ग्रह को सकारात्मक तब समझना चाहिए जब व्यक्ति का जन्म 21 दिसंबर और 21 जनवरी के बीच हुआ हो और कुछ हद तक यदि जन्म 28 फरवरी तक हुआ है इन तारीखों में जन्म लेने वाले लोग बलवान इच्छा शक्ति और मस्तिष्क के होते हैं परंतु अपने जीवन में अपने आप को एकांकी और दूसरों से अलग पाते हैं हमें परिस्थितियों के हाथों में हुए खिलौने के समान होते हैं और बलवान इच्छाशक्ति होने पर भी उन पर आने में असमर्थ रहते हैं स्वभाव से व्यक्ति स्वतंत्र विचार  के होते हैं|

sdsdasas

भाग्य और परिस्थितियों के हाथों मेरे खिलौने के समान होते हैं और बलवान इच्छाशक्ति होने पर भी भी उन पर अधिकार पाने में असमर्थ रहते हैं स्वभाव से वे स्वतंत्र विचार के होते हैं और उन्हें अपने ऊपर दूसरों का नियंत्रण पसंद नहीं आता यदि उनके प्रति कोई इसमें या सहानुभूति दिखाएं तो वह उसके लिए सब कुछ करने को तैयार हो जाते हैं परंतु क्यों कि वह अपने आप को सबसे अलग पाते हैं इसलिए उन्हें विश्वास नहीं होता कि उसका कोई ख्याल रखता है या उसका कोई ख्याल करता है प्रेम और कर्तव्य के संबंध में उनका ऐसा विचित्र दृष्टिकोण होता है कि जो भी उन के निकट आना चाहता है उसको सनकी समझने लगते हैं अपने को धार्मिक नहीं दिखाते हुए वीर्य धार्मिक होते हैं और सदा जनसाधारण के लिए भलाई का कार्य करने के प्रयत्न में संलग्न में रहते हैं अपने जीवन के उत्तरदायित्व को भी ऐसे गंभीर रुप से लेते हैं कि परिणाम स्वरुप में निराशावादी हो जाते हैं यदि धार्मिक होते हैं तो धर्मांध हो जाते हैं और अपने धार्मिक विचारों का विरोध सहन नहीं कर सकते अध्यात्म और गुप्त विद्याओं में उन को आंतरिक रुप से रुचि होती है परंतु इसमें सीमा उल्लंघन कर जाते हैं

वे चतुर और बौद्धिक व्यक्तियों के प्रति आकर्षित होते हैं वह गंभीर विचारक होते हैं परंतु अपने विचारों के प्रति विरोध को भी सहन नहीं कर सकते वह पूछ और उत्तरदायित्व के पदों पर आसीन होते हैं परंतु यह सब होते हुए भी सदा भाग्य पर विश्वास रखते हैं वह यही समझते हैं कि जो कुछ भी है वह विधाता की इच्छा अनुसार है और यदि उनके द्वारा हजारों आदमी नष्ट भ्रष्ट हो जाए तो भी वह यही समझते हैं कि विधाता की ऐसी ही इच्छा थी यदि कर्तव्य की वेदी पर उन्हें अपना बलिदान देना पड़े तो वे अपना जीवन दे देने में जरा भी संकोच नहीं करते ऊपर दी हुई तारीख को में जन्म लेने वाले जातक विचित्र स्वभाव के होते हैं उनसे लोग इसमें भी करते हैं और वह भी रहते हैं शनि ग्रह पर अधिक रेखाएं हो तो व्यक्ति विशेष सूचना रहना लक्षण पाए जाते हैं उत्तम होने पर व्यक्ति सर्वे पर्वतीय वन अधिकारी कार्य अनुसंधान कार्य करने वाले होते हैं अधिक होने की दशा में व्यक्ति को जीवन भर शांति नहीं मिलती है|

शनि पर्वत पर तिल होने से सांप के काटने का खतरा रहता है यदि जीवन रेखा से आकर कोई रेखा बृहस्पति का को काटती है तो इन्हें सांप  से अवश्य ही सावधान रहना चाहिए ऐसे व्यक्तियों को स्वपन या प्रत्यक्ष में सांप अधिक दिखाई देते हैं और इन्हें अग्नि और बिजली से भी भय रहता है शनि ग्रह पर यदि हृदय रेखा में त्रिकोण हो तो व्यक्ति आयु में संपत्ति का निर्माण करते हैं परंतु यदि यह त्रिकोण स्वतंत्र हो तो आध्यात्मिक रुचि होती है ऐसे व्यक्ति की आत्म शक्ति विशेष उन्नत होती है अंत में ऐसे व्यक्ति संयासी हो जाते हैं शनि की उंगली लंबी होने पर यह कहा जाता है कि शनि पर शनि की उंगली टेढ़ी हो तो व्यक्ति कार्य करते हैं |

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.